October 4, 2022

अन्धविश्वास में उलझकर युवती ने दी खुद की बलि,गर्दन रेत देवी प्रतिमा पर चढ़ाया खून

Entangled in superstition, the girl sacrificed herself, offered blood on the neck sand goddess statue

सृष्टि भट्टाचार्य की रिपोर्ट

Meerut:मेरठ से एक सनसनी खेज़ खबर सामने आयी है जिसमे अन्धविश्वास के चलते एक युवती को अपनी जान देनी पड़ी। मेरठ के खरखौदा क्षेत्र के गांव कुड़ी से मिली खबर के मुताबिक युवती का नाम मीनू है और परिवार को आर्थिक तंगी से उबारने के लिए युवती ने उठाया यह कदम ।

ग्रामीणों के अनुसार, गांव के इंद्रजीत का परिवार आर्थिक संकट से जूझ रहा था। उसकी बेटी मीनू (23 वर्ष) माता की भक्ति में पूरा दिन लिप्त रहती थी। उसके दिमाग में यह बात घर गई कि यदि वह माता के समक्ष अपनी बलि दे देगी तो परिवार के दुख दूर हो जाएंगे। इसी अंधविश्वास के चलते दो दिन पहले दोपहर में वह खासपुर गांव के जंगल में स्थित काली माता के मंदिर में पहुंची।

यहां उसने मंदिर के कपाट बंद कर पूजा की।मंदिर में देवी की प्रतिमा के आगे पहले गर्दन रेत कर खून चढ़ाया फिर फांसी लगा कर मंदिर में ही झूल गयी ।

अन्धविश्वास को हथियार के रूप में किया जाता है इस्तेमाल

यह कोई पहली घटना नहीं है जिसमे अन्धविश्वास के चलते किसी को जान देनी पड़ी हो ।ऐसा सदियों से चला आ रहा है कभी परंपरा के नाम पर तो कभी आस्था के नाम पर ।

अन्धविश्वास को बढ़ावा हर जगह दिया जाता है ।हलाकि अब इन चीजों के खिलाफ सख्त कानून बना दिए गए है परंतु आखिर कब तक इस प्रकार की घटना सामने आती रहेंगी?बरहाल ये सवाल भी सवाल ही बना रह जायेगा ।

Leave a Reply