October 4, 2022

अगर आप भी करते हैं UPI से ट्रांजेक्शन, तो ध्यान रखें इन बातों का वरना हो सकता है बैंक खाता खाली

भारत में डिजिटल लेनदेन बढ़ता जा रहा है। कोरोना काल में विशेष तौर से डिजिटल लेनदेन बढ़ा है। डिजिटिल लेनदेन के लिए बड़ी संख्या में लोग यूपीआई (UPI) यानी यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस का काफी इस्तेमाल करते हैं। भारत सरकार ने यूपीआई भुगतान के लिए ही भीम एप भी लॉन्च किया था। आज के समय में 10 से भी अधिक ऐसे एप हैं, जो यूपीआई की सुविधा देते हैं।

हालांकि डिजिटल लेनदेन ने जहां कई समस्याओं को हल कर दिया है, वहीं एक बड़ा सवाल इसकी सुरक्षा को लेकर भी खड़ा हो गया है। आए दिन साइबर क्राइम की खबरें आती रहती है। हैकर्स नए-नए तरीकों से लोगों को ठगते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बता रहे हैं जिन्हें आजमा कर आप साइबर धोखाधड़ी से बच सकते हैं।

digital_payment.jpg

अपना UPI एड्रेस शेयर करने की भूल न करें:
कई लोग ये गलती कर बैठते हैं और बाद में पछताते हैं। कृप्या आप ये गलती ना करें। क्योंकि अपने UPI अकाउंट/एड्रेस को सुरक्षित रखना सबसे महत्वपूर्ण है। आपको कभी भी अपना यूपीआई आईडी/एड्रेस किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहिए।

आपका यूपीआई एड्रेस आपके फोन नंबर, क्यूआर कोड या वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (वीपीए) के बीच कुछ भी हो सकता है। आपको किसी भी भुगतान या बैंक एप्लिकेशन के माध्यम से किसी को भी अपने यूपीआई अकाउंट तक पहुंचने की अनुमति नहीं देनी चाहिए।

स्ट्रॉन्ग स्क्रीन लॉक का करें इस्तेमाल:
एक गलती जो अक्सर लोग करते हैं वो है बेहद सिंपल स्क्रीन लॉक या पासवर्ड/पिन सेट करना। आप ऐसी गलती करने से बचें और एक तगड़ा यानी स्ट्रॉन्ग पासवर्ड सेट करें। आपको सभी भुगतान या वित्तीय लेनदेन ऐप के लिए एक मजबूत स्क्रीन लॉक सेट करना होगा।

यदि आप Google Pay, PhonePe, Paytm, या किसी अन्य प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हैं, तो एक मजबूत पिन सेट करना आवश्यक है, जो आपकी जन्म तिथि या वर्ष, मोबाइल नंबर के अंक या कोई अन्य नहीं होना चाहिए। आपको अपना पिन किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहिए और यदि आपको संदेह है कि आपका पिन उजागर हो गया है, तो इसे तुरंत बदल दें।

ढेर सारी ऐप का उपयोग करने से बचें:
ये गलती अक्सर कई लोग करते हैं कि वे अपने फोन में ढेर सारी पेमेंट ऐप को इंस्टॉल कर लेते हैं। आप ऐसा ना करें और किसी विश्वसनीय ऐप का ही इस्तेमाल करें। एक से अधिक UPI या ऑनलाइन भुगतान ऐप का उपयोग न करने की सलाह दी जाती है।

digital_payment.jpg

कई डिजिटल भुगतान ऐप हैं जो यूपीआई लेनदेन की अनुमति देते हैं, इसलिए, आपको यह देखना होगा कि कौन सा ऐप कैशबैक और पुरस्कार जैसे बेहतर लाभ प्रदान करता है, और उसी के अनुसार अपनी पसंद बनाएं।

हमेशा अपनी UPI ऐप को अपडेट रखें:
जो भी पेमेंट ऐप आप इस्तेमाल करते हैं उसे हमेशा अपडेट रखें। UPI पेमेंट ऐप समेत प्रत्येक ऐप को लेटेस्ट वर्जन में अपग्रेड किया जाना चाहिए क्योंकि नए अपडेट बेहतर UI और नई सुविधाएं और लाभ लाते हैं। अपडेट अक्सर बग फिक्स भी लाते हैं। ऐप्स को लेटेस्ट वर्जन में अपग्रेड करने से आपका अकाउंट भी सेफ रहता है और सुरक्षा उल्लंघनों की संभावना कम होती है।

किसी के बोलने पर कोई एप डाउनलोड न करें:
अगर कॉल करके कोई आपसे कहता है कि अपने फायदे के लिए कोई एप डाउनलोड कर लें, तो उसकी बात मानने की भूल मत करिएगा। किसी के बोलने पर भी कोई थर्ड पार्टी एप जैसे स्क्रीनशेयर, एनीडेस्क, टीमव्यूअर आदि को डाउनलोड न करें,

अगर कॉल करने वाला व्यक्ति किसी बैंक या वॉलेट कंपनी से होने का दावा करता है, तो भी इससे सावधान रहें। कभी भी किसी अनजान व्यक्ति द्वारा सुझाव देने या रिक्वेस्ट करने पर कोई एप्लीकेशन UPI एप पेमेंट वॉलेट को डाउनलोड न करें।

Input: Patrika News

Leave a Reply