October 7, 2022

Indian Railways Rule: देश की पहली ट्रेन, जिसमें यात्री नहीं खा पाएंगे Non Veg, Railway ने किया बड़ा ऐलान

Vande Bharat Express: वंदे भारत में Train से सफर करने वालों के लिए जरूरी खबर है. Railway ने Train में खाने को लेकर बड़ा ऐलान किया है. Delhi-Katra Vande Bharat Express में अब Non veg खाने और ले जाने पर मनाही हो गई है. Vande Bharat Train देश की पहली ऐसी Train है, जिसे Sattvik Certificate दिया गया है. यानी अब यह Train पूरी तरह से Hygienic and Vegetarian है.

Vande Bharat Express को मिला देश का पहला Sattvik Certificate

आपको बता दें कि Indian Railways ने इसकी शुरुआत भी कर दी है. ट्रेनों में खानापान की सुविधा उपलब्‍ध कराने वाली Indian Railway Catering and Tourism Corporation और सात्विक काउंसिल ऑफ इंडिया के बीच इसके लिए पहले ही समझौता हो चुका है. आपको बता दें कि यात्री अपनी तरफ से भी इसमें Non Veg नहीं खा सकते हैं.


बाकी Trains भी होंगी Sattvik!

IRCTC ने Vande Bharat Express को सात्विक Train बनाने की शुरुआत कर दी है. Indian Railways के अनुसार, धीरे-धीरे धार्मिक स्‍थानों को जाने वाली अन्‍य Trains को भी सात्विक बनाया जाएगा. इन ट्रेनों में सफर करने वाले यात्री ऐसे होते हैं, जो धार्मिक यात्रा पर जा रहे होते हैं और पूरी तरह से सात्विक खाना पसंद करते हैं. इसके बाद बाकी Trains को भी सात्विक बनाया जाएगा.

Indian Railways ने उठाया बड़ा कदम

सफर के दौरान बहुत सारे यात्री Trains में परोसा जाने वाला खाना पसंद नहीं करते हैं क्योंकि उन्हें यह निश्चित नहीं होता है कि Train में मिलने वाला खाना पूरी तरह Hygienic and Vegetarian है. यात्रियों में भोजन को लेकर एक संशय बना होता है.

उनके भीतर ये सवाल चलता रहता है कि Train में खाने बनाने के दौरान साफ सफाई का कितना ध्‍यान रखा गया है, Veg And Non Veg अलग-अलग पकाया गया है, खाना तैयार करने से लेकर सर्व करने तक क्‍या प्रक्रिया है. अब ऐसे यात्रियों की समस्याओं को जड़ से खत्म करने के लिए Indian Railways सात्विक ट्रेन की शुरुआत की है.

जानिए इसकी पूरी प्रक्रिया

सात्विक काउंसिल ऑफ इंडिया के फाउंडर अभिषेक बिस्‍वास ने बताया है कि Vande Bharat Express को सात्विक का सर्टिफिकेट देने से पहले कई तरह की प्रक्रिया पूरी की गई है. इसके तहत खाना बनाने की विधि, किचन, परोसने और सर्व करने के बर्तन, रख-रखाव की जांच की गयी, सभी प्रक्रिया से गुजरने के बाद ही सर्टिफकेट दिया गया है. यानी Indian Railways ने पूरी तैयारी के बाद इसे सर्टिफिकेट दिया है.

Leave a Reply