October 5, 2022

कपिल सिब्बल ने अपनी ही पार्टी के संवाद हीनता पर उठाए सवाल, बोले पिछले 2 साल से सोनिया से नहीं हुई बात

Kapil Sibal raised questions on his own party's lack of communication, said Sonia did not talk for the last 2 years

क्षितिज यादव की रिपोर्ट

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने अपने ही पार्टी के भीतर की संवाद हीनता को लेकर सवाल खड़े किए हैं। एक बड़े मीडिया चैनल के वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई को दिए गए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा की टॉप लीडरशिप से 2019 से उनकी कोई बातचीत नहीं हुई है। कपिल सिब्बल ने कहा कि पार्टी की गिरती साख के पीछे का महत्वपूर्ण कारण संवाद की कमी है।

उन्होंने कहा कि किसी भी पार्टी को कार्यकर्ता उसके शिखर तक ले जाते हैं परंतु हम लोग कार्यकर्ताओं से बात नहीं कर रहे हैं इसलिए वह नाराज हैं। कांग्रेस एक बड़ी और पुरानी पार्टी है। मौजूदा समय में बीजेपी को कोई भी पार्टी बिना कांग्रेस के सहयोग से नहीं हरा सकती। कांग्रेस को विपक्ष को एकजुट करने की पहल करनी चाहिए। इन मुद्दों पर कोई भी फैसला लेने से पहले पार्टी को आपस में संवाद करना चाहिए।

बर्थडे पर नहीं दिखे थे सोनिया ,राहुल

गौरतलब है कि कपिल सिब्बल ने अपने 73 वें जन्मदिन के अवसर पर नाइट पार्टी रखी थी। इस पार्टी में कांग्रेस के कई बड़े नेता एवं समान विचारधारा वाले पार्टियों के नेताओं ने शिरकत की थी। परंतु गौर करने वाली बात यह है कि इसमें पार्टी के टॉप लीडर राहुल गांधी या कांग्रेस पार्टी की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी उपस्थित नहीं थी।

इस पार्टी में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, वरिष्ठ समाजवादी नेता प्रो. रामगोपाल यादव , रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी, तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन, शरद पवार, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव, मनीष तिवारी, शशि थरूर और आनंद शर्मा जैसे बड़े नामों ने शिरकत की थी।

संवाद हीनता का नतीजा भी भुगत रही है कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी में संवाद हीनता एवं आपसी सामंजस्य की कमी समय-समय पर उजागर हो रही है। आपस में सामंजस्य की कमी के कारण ही पिछले साल मध्य प्रदेश के बड़े कांग्रेसी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पार्टी छोड़कर बीजेपी ज्वाइन कर ली थी जिसके कारण मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार भी गिर गई थी। वही उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण वोटों पर अच्छी पकड़ रखने वाले जितिन प्रसाद भी पिछले दिनों बीजेपी में चले गए हैं। आपको बता दें कि समय-समय पर सचिन पायलट और नवजोत सिंह सिद्धू की नाराजगी की खबरें मीडिया में आती रहती हैं।

Leave a Reply