October 7, 2022

रांची आरपीएफ ने लालू यादव को हटिया-पटना एक्सप्रेस से पकड़ा, मामला बोकारो जीआरपी के हवाले

जबसे बिहार में शराबबंदी लागू हुई इसकी तस्करी शुरू हो गई। शराब तस्करी एक बड़ा धंधा बन गया। एक-दो बोतले बेच देने वाले भी चार-पांच साै रुपये बना लेते हैं। बिहार से पड़ोसी राज्यों से शराब तस्करी की जाती है। इसके लिए सबसे सरल माध्यम ट्रेनें हैं। यह छुपी हुई बात है। आरपीएफ आए दिन बिहार की तरफ जाने वाली ट्रेनों में तलाशी लेती है तो शराब की बरामदगी होती।

धंधेबाज गिरफ्तार होते हैं। इसी कड़ी में बोकारो रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ ने लालू यादव को गिरफ्तार किया है। हालांकि इस नाम को पढ़कर ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है। क्योंकि आप जो सोचेंगे वह लाल यादव गिरफ्तार नहीं हुए हैं। ये रांची के रहने वाले हैं

रांची से पटना शराब ले जा रहे थे लालू और शिवपूजन

बिहार में शराब बंदी को देखते हुए झारखंड से शराब का ले जाने के लिए लोग रेल को माध्यम बना रहे हैं। इसी कड़ी बुधवार को हटिया-पटना ट्रेन के स्लीपर कोच संख्या-8 में शराब लेकर बिहार जा रहे दो लोगों को रेलवे सुरक्षा बल ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लोगों में रांची निवासी लालू यादव व शिवपुजन गुप्ता शामिल है। शिव पूजन गुप्ता व लालू यादव दोनों टीपुदाना थाना क्षेत्र रांची के निवासी है। बैग में शराब लेकर पटना जा रहे थे।

कोच संख्या एस-8 से पकड़े गए

रांची की ट्रेन एस्कार्टिंग टीम एएसआइ डीके सिंह के नेतृत्व में कोच की जांच कर रही थी। ट्रेन की जांच के दौरान एक लावारिस बैग कोच संख्या एस-8, सीट नं. 54 के पास पाया गया। लावारिस बैग के संबंध में आस-पास के यात्रियों से पूछताछ की लेकिन किसी ने उसके बारे में जानकारी नहीं दी। जब पूरी तरह से जांच की गई कि दो लोग डिब्बे में संदिग्ध रूप से घूम रहे थे

दोनों को बोकारो आरपीएफ के हवाले कर दिया

पूछताछ और उनके सामान की जांच करने पर एस्कॉर्ट पार्टी को तीन और बैग शराब की बोतलों से भरे हुए उनके पास से मिले। तीनों बैग में 103 बोतल शराब मिली। इनमें 69 ओल्ड हैबिट व्हिस्की, 10 किंग रॉयल व्हिस्की, 24 ब्लू रॉक व्हिस्की को जब्त किया गया।

जब्त तीन बैग में शराब के साथ बोकारो आरपीएफ पोस्ट ले आई और आगे की कार्रवाई के लिए सौंप दिया गया। दोनों ने बताया कि यह शराब बिहार में खपाने के लिए ले जा रहे थे। दोनों गिरफ्तार व्यक्तियों को जब्त सामग्री के साथ आगे की कार्रवाई के लिए सहायक आयुक्त उत्पाद विभाग को सौंप दिया गया।

Input: Dainik Jagran

Leave a Reply