October 3, 2022

Ration Card New Rules : राशन कार्ड, किस-किस को सरेंडर करना पड़ेगा, Last Date, लिस्ट जारी फटाफट देखे बड़ी खबर

Ration Card New Rules : भारत सरकार प्रत्येक राज्य में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को एक राशन कार्ड जारी करती है, जिसमें परिवार के प्रत्येक सदस्य का नाम लिखा होता है, जो इस कार्ड का उपयोग करके हर महीने आधार कार्ड से जुड़ा होता है।

भारत सरकार के सहयोग से सभी राज्यों में सस्ता गेहूं, चावल आदि खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। ताकि गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े और वे आसानी से जीवन यापन कर सकें। लेकिन इस योजना में कई अपात्र लोग लाभ ले रहे हैं, जिससे सरकार को कुछ हद तक नुकसान हो रहा है और कुछ पात्र लोग योजना का लाभ लेने से वंचित हो रहे हैं.

इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश (यूपी) की योगी आदित्यनाथ सरकार ने सभी अपात्र लोगों को बाहर करना शुरू कर दिया है और सभी लोगों ने ऐसे अपात्र लोगों को आखिरी मौका दिया है कि आप खुद यूपी राशन कार्ड के लिए पात्र हैं। अपात्र लोगों के अनुसार अपना राशन कार्ड स्वयं जमा करें अन्यथा अंतिम तिथि के बाद जांच कर अपात्र व्यक्तियों का राशन कार्ड निरस्त कर वसूली सहित कानूनी कार्रवाई की जायेगी.

यूपी राशन कार्ड धारकों को कितना राशन मिलता है

पात्र घरेलू राशन कार्ड

अब तक यूपी राशन कार्ड धारकों को प्रति सदस्य 5 किलो दिया जा रहा था, जिसमें चावल और गेहूं दिया जा रहा है और समय-समय पर तेल, नमक, चना, चीनी, दाल आदि खाद्य सामग्री दी जा रही है।

अंत्योदय राशन कार्ड

प्रत्येक राशन कार्ड पर 35 किलो राशन दिया जाता है, जिनके पास अंत्योदय कार्ड है, उन्हें हर महीने 35 किलो राशन दिया जाता है, यह परिवार के सदस्यों पर निर्भर नहीं है, सभी को 35 किलो मिलता है।

Ineligibility Criteria of UP Ration Card

  • जिस परिवार में कोई भी सदस्य आयकार दाता (Income Tax) हो।
  • ग्रामीण में 2 लाख प्रति वर्ष और शहरो में 3 लाख प्रति वर्ष से अधिक पारिवारिक आय हो ।
  • 5 एकड़ से अधिक सिंचित भूमि न हो
  • जिन परिवार के घर में AC लगा हो।
  • जिसके के पास ट्रैक्टर हैं।

  • जिस परिवार में कोई भी चार पहिया वाहन हैं।
  • 5 KVA से ज्यादा छमाता से ज्यादा जनरेटर हो।
  • एक या एक से अधिक हथियार का लइसेंस हैं।
  • 100 वर्ग मीटर (1076.39 वर्ग फिट) का का प्लॉट,फ्लेट या मकान, 80 वर्ग मीटर कॉर्पोरेट एरिया का व्यावसायिक स्थान हैं।

अपात्र लोगों को कब तक यूपी राशन कार्ड सरेंडर करना होगा

यूपी राशन कार्ड अपात्र लोगों को कब तक सरेंडर करना है, इस बारे में सरकार की ओर से अभी तक कोई आदेश नहीं आया है, लेकिन आप जल्द से जल्द अपने नजदीकी तहसील और डीएसओ कार्यालय में सरेंडर कर दें, ताकि बाद में आपको कोई परेशानी न हो. वैसे भी, यदि आप भारत के एक सम्मानित नागरिक होने के अपात्र हैं, तो गरीबों की खातिर और उनके उत्थान के लिए राशन कार्ड को सरेंडर कर देना चाहिए।

जिसके अनुसार अपात्र लोगों से यूपी राशन कार्ड वसूल किया जाएगा। वसूली दर यदि जांच में कोई अपात्र पाया जाता है तो जिलाधिकारी के अनुसार – गेहूँ के लिए 24 रुपये प्रति किलो और चावल और नमक, चीनी, तेल और अन्य सामग्री के लिए 32 रुपये प्रति किलो बाजार दर से वसूल किया जाएगा।

अपात्र लोगों को यूपी राशन कार्ड कैसे सरेंडर करें

सबसे पहले अपात्र राशन कार्डधारकों को नोटरी स्टेटमेंट हेल्पफी बनाकर अपने राशन कार्ड की फोटोकॉपी जमा कर तहसील व डीएसओ को जमा करना चाहिए।

यूपी राशन कार्ड अंत्योदय राशन कार्ड के लिए पात्रता

नियमों के मुताबिक अब कोई भी अंत्योदय राशन कार्ड नहीं बनवा सकता क्योंकि यह कार्ड सिर्फ उन्हीं लोगों के लिए है जिनके परिवार बेहद गरीब वर्ग में आते हैं। 2002 में भारत सरकार द्वारा बीपीएल सर्वेक्षण कराया गया था और इस डेटा के अनुसार, उन लोगों को अंत्योदय राशन कार्ड जारी किए गए थे जिनकी पहचान अत्यंत गरीब परिवारों के रूप में की गई थी।

यूपी में कौन बना सकता है राशन कार्ड (राशन कार्ड के लिए पात्रता)

  • जिनके पूरे परिवार की वार्षिक आय 2 लाख ग्रामीण और 3 लाख शहरी से कम है।
  • दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी
  • भूमिहीन मजदूरों के परिवार या 5 एकड़ से कम के परिवार
  • जिसके पास चार पहिया वाहन नहीं है।

  • आर्थिक जनगणना 2011 में गरीब परिवारों की पहचान की गई।
  • भिखारी
  • रिक्शा चालक।
  • ड्राइवर, कुली और अन्य मजदूर

Leave a Reply