October 3, 2022

भारत के तीन रहस्यमयी मंदिर जिनके बारे में जानकर वैज्ञानिक भी हैं हैरान

हमारे देश भारत को मंदिरो का देश भी कहा जाता हैl यहाँ के मंदिर जितने पौराणिक हैं उतने हीं रहस्यमयी भी | आइये जानते हैं कुछ ऐसे हीं रहसमयी मंदिरो के बारे में जिसके सामने विज्ञान भी नतमस्तक है.

ज्वाला देवी मंदिर – ज्वाला देवी का मंदिर हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा घाटी में स्थित है| माना जाता है की माता सती की जीभ यहाँ गिरी थी एवं हज़ारो वर्षों से उनके मुख से अग्नि निकल रही है| आज भी यहाँ बिना किसी तेल घी और बती के जल रही है.

बहुत सारे लोगो ने इसे बुझाने की भी कोशिश की किसी ने पानी डलवाया तो किसी ने कुछ और लेकिन यह आज भी ऐसे हीं प्रज्वलित है|वैज्ञानिको ने इसका निरिक्षण किया लेकिन कोई पुख्ता कारण नहीं बता पाए.

श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर – यह मंदिर केरला में स्थित हैl यहाँ भगवान विष्णु की प्रतिमा स्थापित हैl इसकी शिल्प कारीगरी विश्व भर में प्रसिद्द है| यह मंदिर दुनिया के धनवान मंदिरो में से एक है| यह मंदिर 2011 में अपने ख़ज़ाने की वजह से चर्चा का विषय बनाl इस मंदिर में 6 चैम्बर मौजूद हैं, इसके 5 चैंबर्स को तो भारत सरकार द्वारा खोल लिया गया और अरबों का खज़ाना मिला.

लेकिन आखिरी चैम्बर खोलने की हिम्मत किसी की नहीं हुई क्यों की मान्यती यह है की आख़री चैम्बर की रक्षा लाखो साँप करते हैं,एवं इस दरवाजे को खोलना आसान भी नहीं हैl इस दरवाजे पर कोई ताला भी नहीं है इसे मंत्रो द्वारा बंद किया गया है l इसे खोलना असंभव माना जाता है.

कैलाश पर्वत – यह पर्वत तिब्बत में मौजूद है एवं हिन्दुओ की आस्था है की इसपर स्वयं भगवान शिव का वास है | दुनिया में ना जाने कितने पर्वत मौजूद हैंl यह पर्वत हिमालय से 2200 मीटर छोटा है, हज़ारो लोग हिमालय पर्वत को फतह कर चुके हैं लेकिन इसके छोटे होने के वावजूद इसको फतह ना कर पाना एक रहस्य बना हुआ है|

ऐसा नहीं है कि किसी ने कोशिश नहीं की बहुत सारे लोग हैं जिन्होंने इस पर्वत पर चढने की कोशीश की लेकिन असफल हुए | उनका कहना है की इस पर्वत पर पैर रखते हीं मौसम बदलने लगता है और कंपस सही दिशा नहीं बतलाता , समय तेज़ी से बीतता है एवं बाल और नाख़ून काफ़ी तेजी से बढ़ते हैं | विज्ञान भी इन सब कारणों का पता नहीं लगा पाया है| इस पर्वत पर हिन्दुओ की खास आस्था है एवं इस पर्वत के पास हीं एक शिव मंदिर भी मौजूद है|

Leave a Reply