October 5, 2022

सपा में ही है बीजेपी को हराने की कुबत, बशर्ते हमें भी ले साथ, राजभर ने बताया जीत का फार्मूला

SP has the power to defeat BJP, provided we also take it along, Rajbhar told the winning formula

क्षितिज यादव की रिपोर्ट

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजनीति में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर एक ऐसा पेंडुलम बन गये हैं जिनके ठहराव का ठिकाना फिलहाल नजर नहीं आ रहा है। कभी बीजेपी के सहयोगी रहे ओमप्रकाश राजभर आज उत्तर प्रदेश में भागीदारी संकल्प मोर्चा बनाकर चुनाव लड़ने की बात कर रहे हैं। ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि अगर समाजवादी पार्टी उत्तर प्रदेश के सभी छोटे दलों से गठबंधन कर ले तो आने वाले समय में भारतीय जनता पार्टी को एक भी सीट नहीं मिलेगी।

सुभासपा अध्यक्ष एवं योगी सरकार में पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि यदि समाजवादी पार्टी केवल मुझसे ही समझौता कर ले तो पूर्वी उत्तर प्रदेश में मऊ ,बलिया अंबेडकरनगर, गाजीपुर, आजमगढ़ ,जौनपुर जैसे जिलों में बीजेपी का खाता भी नहीं खुलेगा। बनारस के सिर्फ 2 सीटों पर ही लड़ाई रहेगी। 403 विधानसभा सदस्यों वाले उत्तर प्रदेश में लगभग 150 सीटें पूर्वी उत्तर प्रदेश में है।

कथनी करनी में फर्क कर रहे हैं अखिलेश

जब ओपी राजभर से यह सवाल किया गया कि अखिलेश यादव ने तो कहा है की उनकी पार्टी ने छोटे दलों के लिए अपने दरवाजे खोल रखे हैं, इस पर ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि अखिलेश पिछले 6 महीने से केवल ऐसा कह रहे हैं जबकि उनकी तरफ से छोटे दलों को जोड़ने की कोई पहल अब तक नहीं की गई है। अगर वह छोटे दलों को बुलाकर बात करें तो आप देखेंगे कि परिणाम क्या रहेगा।

सपा में ही है बीजेपी को हराने का माद्दा

जब सुभासपा अध्यक्ष से यह सवाल किया गया कि कौन सी पार्टी बीजेपी को टक्कर दे सकती हैं। इस सवाल के जवाब में ओपी राजभर ने कहा कि प्रदेश की जनता का ऐसा मानना है कि मौजूदा समय में सिर्फ समाजवादी पार्टी ही बीजेपी को हराने का माद्दा रखती है। हालांकि बीएसपी और कांग्रेस भी इस प्रयास में लगे हैं, परंतु उनका प्रयास फिलहाल अभी नाकाफी है। बीएसपी का क्रेज प्रदेश में नहीं है।

बीजेपी से भी हाथ मिला सकते हैं ओमप्रकाश राजभर

पिछले दिनों ओमप्रकाश राजभर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह से मिले हैं। जिसके बाद एक बार पुनः ओमप्रकाश राजभर का बीजेपी से मिलने की अटकलें तेज हो गई है। एक सवाल के जवाब में ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी किसी पिछड़े समाज के व्यक्ति को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाती है तो वह फिर से भाजपा से गठजोड़ कर सकते हैं। बीजेपी अध्यक्ष से हुई मुलाकात पर ओपी राजभर ने औपचारिकता एवं व्यक्तिगत संबंध का हवाला देकर गठबंधन के अटकलों पर विराम लगा दिया था।

Leave a Reply