October 5, 2022

चीनी यूनिवर्सिटी में जुलाई में छात्र नागसेन अमन की हत्या, 20 दिन लग गए भारत लाने में शव

Student Nagsen Aman was murdered in Chinese University in July, it took 20 days to bring the body to India

क्षितिज यादव की रिपोर्ट

पटना। हमारा देश पिछड़े हुए देशों में अपना अब स्थान रखता है। हमारी शिक्षा व्यवस्था भी पिछड़ी हुई आंकी जाती है। ऐसे में अधिकतर भारतीय छात्रों की इच्छा होती है कि वह विदेशों में जाकर बेहतर शिक्षा ग्रहण कर अपने देश के लिए कुछ कर सके। मगर यदि किसी दूसरे देश में पढ़ाई कर रहे छात्र की हत्या की खबर आती है तो इससे दुखद क्या हो सकता है। बिहार के गया के होनहार छात्र नागसेन अमन चीन के तियान जीन फॉरेन यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी में बिजनेस स्टडी का पढ़ाई करने गए थे । 23 जुलाई को खबर आती है कि छात्र नागसेन अमन की यूनिवर्सिटी में संदिग्ध हालत में हत्या कर दी गई है।

20 दिन बाद देश में लाया जा सका छात्र का शव

इसे भारत सरकार कि राजनयिक सफलता कहा जाए या विफलता यह मैं आप पर छोड़ता हूं। फिलहाल छात्र के मृत्यु के 20 दिन बाद उसका शव भारत लाया जा सका है। कल छात्र का शव दिल्ली लाया गया इसके तुरंत बाद उसे विशेष विमान से पटना भेजा गया। पटना से सड़क के रास्ते छात्र नागसेन अमन का शव उनके पैतृक गांव कस्तूआ (गया) लाकर अंतिम संस्कार किया गया। आपको बता दें कि नागसेन का परिवार चाहता था कि उनका पोस्टमार्टम भारत में कराया जाए जिससे दूध का दूध और पानी का पानी साफ हो। परन्तु चीन सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी जिसके बाद चीन में ही छात्र का पोस्टमार्टम किया गया।

परिवार वालों ने उठाया सवाल

नागसेन अमन‌ के चाचा ने भारत सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि “मेरे बच्चे की चीन में हत्या होती है, यहां की सरकार क्या कर रही है’ विदेश में यहां के एक छात्र की हत्या की जाती है और सरकार जागती नहीं है।”अमन के परिवार वाले यह भी मांग कर रहे थे कि अमन का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के तहत हो परंतु गया के डीएम अभिषेक सिंह ने ऐसा कोई एक्ट नहीं है, का हवाला देकर नकार दिया।

Leave a Reply