June 14, 2021

ईश्वर के घर देर है अंधेर नहीं चोरों का हृदय परिवर्तन देख छपरा वासी हुए आश्चर्यचकित

बिहार के छपरा में सबको चौंका देने वाला मामला सामने आया जब एक मंदिर प्रांगण में चोर चोरी करने नहीं बल्कि चोरी का सामान वापस करने आए थे। ये खबर सुर्खियों में तब आई जब इस विषय में मंदिर के पुजारी ने लोगों को बताया कि जो मूर्ति अचानक से चोर या फिर कोई अज्ञात व्यक्ति एक जींस में लपेट कर रख गए थे दरअसल ये मामला 2019 दिसंबर का है। जब बिहार राज्य के छपरा जिले के मांझी थाना क्षेत्र के फतेहपुर स्थित सरैया गांव में एक रात मंदिर से चोरों ने तीन मूर्तियों चुरा ली थीं।

जिसमे कि राम जी, जानकी माता तथा लक्ष्मण भगवान की मूर्तियां शामिल थीं जिसकी कीमत करोड़ों रुपए आंकी जा रही है। यही कारण है कि जब हूव हू यही मूर्तियां अज्ञात लोगों द्वारा दो साल बाद मंदिर में फिर से रख दी गईं जिसका पता मंदिर परिसर के पुजारी सहित अन्य लोगों को तब लगा जब वे अनजान व्यक्ति मूर्तियां रखकर आनन फानन में फरार हो गए। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुजारी ने पुलिस को खबर दी।

पुलिस की माने तो ये प्रभाव प्रशासन की कड़ी सख्ती के कारण है पुलिस लगातार अपने खुफिया तंत्र के माध्यम से इन चोरों की तफ्तीस में लगी है लेकिन खबर ये भी है कि जिन्होंने ये मूर्तियां वापस की लेकिन दो ही मूर्तियां की जबकि चोरी तीन मूर्तियां हुईं थीं लक्ष्मण जी की मूर्ति का अभी तक कुछ पता नहीं लग पाया है।

गांव वालों की माने तो ये ईश्वर की कृपा है और चोरों का हृदय परिवर्तन हुआ! आखिर कौन थे वे लोग? ये तो पूरी जांच पड़ताल के बाद ही पता लग पाएगा लेकिन इस मामले को लेकर पुलिस प्रशासन पूरी चौकसी बरत रहा है। इसी के अंतर्गत वापस आईं अष्टधातु से निर्मित मंदिर के इस कीमती धरोहर की जांच, जासूसी करने वाले कुत्तों से कराई जा रही है। अब देखने वाली बात ये होगी कि कितने दिनों में पुलिस चोर सहित बची हुई मूर्ति को वापस दिलाने में कामयाब होगी।

Leave a Reply

Copyright © All rights reserved. The Times Of Hind | Newsphere by AF themes.