October 5, 2022

काबुल एयरपोर्ट पर अमेरिकी सैनिकों ने हवा में दाग़ी गोलियाँ, उड़ानें स्थगित , भारत ने भी तैनात किये विमान

अमरेंद्र पांडेय की रिपोर्ट

अमरेंद्र पांडेय की रिपोर्ट

सत्ता में परिवर्तन के बाद तालिबान की तरफ से उसके बड़े नेता मौलाना अब्दुल गनी ब्रदर को राष्ट्रपति बनाया जा सकता है। रविवार को काबुल में घुसने कू साथ ही तालिबानियों का पूरा अफगानिस्तान पर कब्जा हो गया। राष्ट्रपति भवन पर भी कब्जा कर उन्होंने तालिबानी झंडा लहरा दिया।

आपको बता दें कि तालिबान ने अफगानिस्तान के ज्यादातर हिस्सों में कब्जा कर लिया है। तालिबान के लड़ाके काबुल शहर के बाहरी इलाकों में रविवार में प्रवेश कर लिया था, जिससे कि लोगों में दहशत फैल गई, और हवाई हवाई अड्डे पर काफी भीड़ में धक्कम् मुक्की करते हुए नजर आये लोग।

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, काबुल एयरपोर्ट पर अनियंत्रित भीड़ को काबू करने के लिए अमेरिकी सैनिकों ने हवाई फायरिंग की। अमेरिका ने अपने नागरिकों को अफगानिस्तान से निकालने के लिए काबुल एयरपोर्ट के एयर ट्रैफिक कंट्रोल को टेक ओवर कर लिया है। Russia समेत कई अन्य देश भी अपने नागरिकों को अपने वतन लाने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं।

भारत भी अपने नागरिकों को वतन वापस लेकर आ गया है, लेकिन कुछ नागरिक जो कि अभी भी अफगानिस्तान मे फँसे हुए हैं, उन्हे लाने के लिए एयर इंडिया के दो विमानों को स्टैंड बाय पर रखने को कहा है। अफगनिस्तान मे हो रहे दंगो को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) एस्टोनिया और नॉर्वे के अनुरोध पर अफगानिस्तान की स्थिति पर सोमवार को आपात बैठक करेगी।

Leave a Reply