January 22, 2022

कंगना के भीख में मिली आज़ादी वाले बयान पर भड़के विशाल ददलानी! कहा- ऐसा सबक सिखाऊंगा की दोबारा बोलने की हिम्मत नहीं होंगी

आजादी 2014 में मिली 1947 में को मिली वो भीख थी वाले बयान को लेकर कंगना रनौत बुरी तरह फंस गई है। जहां कई जगह उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज हो रही है तो वही बीजेपी ने भी उनसे पल्ला झाड़ लिया है। लोग अब हर तरफ उनकी आलोचना कर रहे है। अब विशाल ददलानी ने कंगना का नाम लिए बिना एक स्ट्रॉन्ग मेसेज के साथ इंस्टाग्राम पर पोस्ट शेयर किया है जिसकी खूब चर्चा हो रही है।

विशाल ददलानी ने अपने इंस्टा अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की है जिसमें वह शहीद भगत सिंह की तस्वीर वाली टी-शर्ट पहने नजर आ रहे हैं। उस पर लिखा है जिंदाबाद। तस्वीर के साथ विशाल ददलानी ने कैप्शन में लिखा है उस महिला को याद दिलाएं, जिसने कहा था कि हमारी आजादी भीख थी। मेरी टी-शर्ट पर शहीद सरदार भगत सिंह है, जो नास्तिक, कवि दार्शनिक, स्वतंत्रता सेनानी, भारत के बेटे और किसान के बेटे है।

उन्होंने 23 साल की उम्र में हमारी आजादी के लिए भारत की आजादी के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान कर दी। वो अपने होंठों पर मुस्कान और एक गीत गाते हुए फांसी पर चढ़ गए थे। विशाल ददलानी ने इस पोस्ट में आगे उन लोगों के बारे में भी लिखा है जिन्होंने भीख मांगने से इनकार कर दिया था।

kangana ranaut

विशाल ने लिखा है कि, उन्हें सुखदेव, राजगुरु, अशफाकउल्लाह, और हजारों अन्य जिन्होंने झुकने से इनकार कर दिया, उन्होंने भीख मांगने से इनकार कर दिया। उनके बारे में याद दिलाएं। उन्हें विनम्रता और दृढ़ता से याद दिलाएं ताकि वह फिर कभी भूलने की हिम्मत न कर सकें।

आपको बता दूं कि इससे पहले भाजपा की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल भी कंगना के बयान से किनारा करते दिखाई दिए थे। चंद्रकांत पाटिल ने कहा है कि कंगना रनौत का यह बयान कि 1947 में भारत को मिली आजादी भीख थी, पूरी तरह गलत है। पाटिल ने संवाददाताओं से कहा कि, स्वतंत्रता के लिए देश के संघर्ष पर कंगना रनौत का बयान पूरी तरह गलत है। किसी को भी स्वतंत्रता आंदोलन पर नकारात्मक टिप्पणी करने का हक नहीं है।

Leave a Reply