October 4, 2022

सुप्रीम कोर्ट के आदेश से अब लड़कियों को भी मिलेगा NDA की परीक्षा में बैठने का मौका

With the order of the Supreme Court, now girls will also get a chance to appear in the NDA exam.

प्रखर दुबे की रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने आज लड़कियों को भी NDA एग्जाम में बैठने की अनुमति दे दी है।
दरअसल, सरकार के निर्णय के बाद भी सैनिक स्कूल और इंडियन मिलिट्री कॉलेज (RIMC) में लड़कियों को दाखिला नहीं दिए जाने पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका पर सुनवाई की जा रही थी, जिसमें यह निर्णय लिया गया है। 08 सितंबर को आयोजित की जानी है परीक्षा।

सैनिक स्कूलों ने पिछले साल से ही लड़कियों को प्रायोगिक तौर पर लेना शुरू कर दिया है।
15 अगस्‍त को प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले से घोषणा कर दी है कि लड़कियों को सैनिक स्कूलों में एडमिशन दिया जाएगा, मगर इंडियन मिलेट्री कॉलेज में अभी लड़कियों को प्रवेश मिलना संभव नहीं हो पा हो रहा है।सेना का कहना है कि लड़के और लड़कियों के लिए ट्रेनिंग अलग अलग हैं।लड़कियों की ट्रेनिंग के लिए अभी उस प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध नहीं है। महिलाओं को अभी तक सेना में लड़ाकू बलों में भर्ती नहीं किया गया है और उन्हें केवल 10 गैर-लड़ाकू स्‍ट्रीम में भर्ती किया जाता है।

RIMC में लड़कियों को एडमिशन न देने का तर्क देते हुुए सीनियर एडवोकेट ऐश्वर्या भाटी ने कोर्ट में कहा, “फिलहाल हम लड़कियों को RIMC में लेने की स्थिति में नहीं हैं।
यह 100 साल पुराना स्कूल है. RIMC के छात्रों के लिए NDA की परीक्षा देना अनिवार्य होता है। उनका अलग बोर्ड है। यह NDA का फीडर कैडर है और NDA में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे से जुड़ा है”।

जस्टिस कौल ने किये तीखे सवाल ,कहा कोर्ट के आदेश को माना जाये

इस पर जस्टिस कौल ने कहा, “आप कहते हैं कि RIMC 100 साल पुराना है, तो आप 100 साल के लैंगिक भेदभाव का समर्थन कर रहे हैं? हमने पहले ही अंतरिम आदेश के जरिए लड़कियों को एनडीए में प्रवेश की अनुमति दे दी है।” इसपर जवाब देते हुए भाटी ने कहा कि RIMC के छात्रों को अनिवार्य रूप से NDA में शामिल होना है। वे कक्षा 8 के छात्रों को एडमिशन देते हैं उन्‍हें विशेष रूप से ट्रेनिंग दी जाती है।यदि लड़कियों को इसमें शामिल होना है तो उन्‍हें नियमित स्कूली शिक्षा छोड़नी होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने लगायी फटकार ,न्यायपालिका को इसपर निर्णय देने के लिए बाध्य ना किया जाये

सुप्रीम कोर्ट ने NDA, सैनिक स्कूलों, RIMC में महिलाओं को प्रवेश नहीं देने के विचार पर सेना को फटकार लगाई. कोर्ट ने कहा, “आप इस मामले पर न्यायपालिका को आदेश देने के लिए बाध्य कर रहे हैं। यह बेहतर है कि आप (सेना) खुद इसके लिए दिश‍ानिर्देश तैयार करें। हम उन लड़कियों को NDA की परीक्षा में बैठने की अनुमति दे रहे हैं जिन्होंने अदालत का दरवाजा खटखटाया है।” 

SC ने लड़कियों को अभी ‘अंतरिम उपाय’ के तौर पर NDA की परीक्षा देने की अनुमति दी है. लड़कियों के NDA में प्रवेश के मुद्दे पर विस्‍तृत नीति बनाने के लिए 05 सितंबर को विचार किया जाएगा।

भारत में पुनः लड़ेंगी झाँसी की रानियां

सुप्रीम कोर्ट में चली लंबी चर्चा के बाद अब लड़कियों के भी लड़ाकू विभाग में जाने के अवसर खुलते हुए दिख रहे है ।इस निर्णय की पूर्णतः पुष्टि भले अभी तक ना हुई जो परंतु लड़कियों के मन में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी है ।NDA की परीक्षा में लड़कियां लंबे वक़्त से अवसर तलाश रही है जिसकी तलाश अब शायद जल्द पूरी होगी ।

Leave a Reply