April 18, 2024

Tata Group Market Cap : रतन टाटा अकेले ही खरीद सकते हैं पूरा पाकिस्तान!, पाक की जीडीपी से भी बड़ा है टाटा ग्रुप

Tata Group Market Cap, Business News

Tata Group Market Cap : भारतीय कंपनी टाटा ग्रुप का मार्केट कैप पाकिस्तान की कुल जीडीपी से ज्यादा हो गया है. टाटा ग्रुप का कुल मार्केट कैप 365 बिलियन डॉलर यानी 30.3 लाख करोड़ रुपए हो चुका है. वहीं दूसरी ओर आईएमएफ के अनुसार पाकिस्तान की कुल जीडीपी 341 बिलियन डॉलर रह गई है.पिछले एक साल में टाटा ग्रुप की कई कंपनियों के शेयर ने जबरदस्त रिटर्न दिया है. इसी वजह से ग्रुप के मार्केट कैप में बढोतरी देखने को मिली है. खास बात तो ये है कि टाटा ग्रुप का मार्केट कैप पाकिस्तान की कुल जीडीपी से ज्यादा हो गया है.

जानकारी के अनुसार आपको बता दे, की टाटा ग्रुप का कुल मार्केट कैप 365 बिलियन डॉलर यानी 30.3 लाख करोड़ रुपए हो चुका है. वहीं दूसरी ओर आईएमएफ के अनुसार पाकिस्तान की कुल जीडीपी 341 बिलियन डॉलर रह गई है. अगर टाटा ग्रुप की सबसे बडी कंपनी टीसीएस की बात करें तो उसकी वैल्यूएशन 170 बिलियन डॉलर यानी 15 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा हो चुकी है. जाेकि भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है.

यह भी पढ़े : एलआईसी ने बच्‍चों के ल‍िए पेश क‍िया ‘Amritbaal Plan, इंश्योरेंस कवर के साथ मिलेगा गारंटीड रिटर्न

टाटा ग्रुप के मार्केट कैप (Tata Group Market Cap)

ऐसे में अगर देखा जाए तो टाटा ग्रुप के मार्केट कैप ने पाकिस्तान जैसे देश को भी पीछे छोड़ दिया है. रतन टाटा का ग्रुप पाकिस्तान की कुल जीडीपी से भी आगे बढ़ गया है. टाटा ग्रुप में सबसे ज्यादा वैल्युएशन टीसीएस का है. टीसीएस का वैल्युएशन 170 बिलियन डॉलर यानी 15 लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा हो चुका है.

TCS पाक की आधी इकोनॉमी के बराबर

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज अब भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी (Tata Group Market Cap) बन गई है. भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी पाकिस्तान की इकोनॉमी का लगभग आधा साइज के बराबर है.

TATA की 25 कंपनियां है बाजार में लिस्ट

टाटा कैपिटल भी अगले साल तक मार्केट में IPO लाने का प्लान बना रही है. इस कंपनी का मार्केट कैप 2.7 लाख करोड़ रुपये है. टाटा ग्रुप की मार्केट में करीब 25 कंपनियां लिस्टेड हैं. इसमें से सिर्फ टाटा केमिकल्स पिछले एक साल में 5 फीसदी नीचे हैं. इसके अलावा टाटा संस, टाटा कैपिटल, टाटा प्ले, टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स और एयरलाइंस बिजनेस जैसी नॉन-लिस्टेड कंपनियों के एमकैप में भी बड़ा इजाफा देखने को मिल सकता है.

पाकिस्तानी इकोनॉमी की हालत खराब (Tata Group Market Cap)

बात करे अगर पाकिस्तान की जीडीपी में वित्त वर्ष 2022 में 6.1% की ग्रोथ दर्ज की गई. वित्त वर्ष 2021 में 5.8% की ग्रोथ हुई है. वहीं, वित्त वर्ष 2023 में अनुमान लगाया जा रहा है कि इसमें गिरावट देखने को मिल सकती है. बाढ़ की वजह से देश को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, देश पर करीब 125 अरब डॉलर का लोन है. पाकिस्तान को जुलाई महीने में करीब 25 अरब डॉलर का विदेशी लोन चुकाना है. वहीं, पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार लगभग 8 बिलियन डॉलर है.

Leave a Reply