मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल शुरू होने वाला है और उससे पहले ही मंत्रिमंडल विस्तार की तैयारी पूरी हो गई है।असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को दिल्ली तलब कर दिया गया वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया को राजधानी में रहने के निर्देश दिए गए हैं।

सूत्रों की मानें तो मंत्रिमंडल विस्तार में फेरबदल हो सकता है। फिलहाल केंद्र में 53 मंत्री हैं और संविधान के अनुसार अधिकतर 81 मंत्री बन सकते हैं। यानी कि अभी 28 लोगों को और शामिल किया जा सकता है। जेडीयू को लेकर स्थिति साफ नहीं है पर एनडीए के सहयोगी दल- अपना दल व अन्नाद्रमुक को जगह मिलने की काफी संभावना है। इस विस्तार में तकरीबन एक दर्जन मंत्रियों की छुट्टी होगी।

ब्राह्मणों के लिए रुझान
जेडीयू में शामिल होने के लिए दो कैबिनेट व एक राज्य मंत्री पद का प्रस्ताव दिया गया है। जेडीयू शामिल होगी या नहीं यह नीतीश कुमार पर निर्भर करेगा। नीतीश मंत्रिमंडल में 5 पद की मांग कर रहे हैं। प्रधानमंत्री की निगाह उत्तर प्रदेश के साथ-साथ पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव पर होगी। ब्राम्हण को खास तौर पर रूझाया जाएगा जिसके अनुसार रीता बहुगुणा जोशी, वरुण गांधी, रमापति राम त्रिपाठी को सीट देने की चर्चा हो रही है।

Leave a Reply