October 3, 2022

तलिबान को लेकर अब तक असमंजस में मोदी सरकार, शिखों एवं हिंदुओं को शरण देगा भारत-पीएम

Modi government still confused about Taliban, India-PM will give shelter to Sikhs and Hindus

क्षितिज यादव की रिपोर्ट

दिल्ली।कोई सपना नहीं कोई जादू नहीं तालिबान दुनिया में आज एक हकीकत बन चुका है। जिस तालिबान को भारत समेत दुनिया के तमाम देश एक आतंकी संगठन कहते हैं। अब उन्हीं देशों को अगर अफगानिस्तान से अपने रिश्ते कायम रखने हैं तो तालिबानी आतंकी संगठन को एक राजनीतिक पार्टी के तौर पर तरजीह देनी पड़ेगी।

ऐसे में भारत ने भी अब तक तालिबान और अफगानिस्तान को लेकर अपना कोई रुख़ स्पष्ट नहीं किया है। आज अफगानिस्तान में उपजे इस हालात को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट स्तर की एक बैठक हुई। कैबिनेट स्तर की बैठक में अफगानिस्तान में भारत के राजदूत रुद्रेंद्र टंडन भी मौजूद रहे।

क्या रही बैठक की अहम बात

इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जो भी अफगानी भाई एवं बहन मदद के लिए भारत की तरफ देख रहे हैं। उनकी हर संभव मदद की जाएगी। पीएम ने कहा कि भारत को ना सिर्फ अपने नागरिकों की रक्षा करनी चाहिए बल्कि हम सिखो एवं अल्पसंख्यक हिंदुओं को भी अपने देश में शरण देंगे। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि इस बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों को वापस लाना हमारी प्राथमिकता में से एक है।

बैठक में विदेश सचिव हर्ष श्रृंखला एवं अफगानिस्तान में भारत के राजदूत रहे रूद्रेंद्र टंडन ने राजनयिक संबंध किस प्रकार से आगे कायम किए जाएं इसका खाका तैयार किया। आगे यह भी कहा गया कि तालिबान को सरकार के रूप में मान्यता देने वाला ना तो पहला और ना ही अंतिम देश होगा भारत।

असमंजस की स्थिति

भारत सरकार तालिबान को एक सरकार के रूप में मान्यता दें कि ना दे। इस पर अब भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। हालांकि सूत्रों की मानें तो अब भी भारत ‘देखते रहो और इंतजार करो’ की स्थिति में है। वह देखना चाहता है कि तालिबानियों की ओर से सरकार के रूप में कौन से मुखोटे सामने आते हैं।

ताकि उनसे संपर्क साधा जा सके। प्रधानमंत्री आवास पर आयोजित इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह ,रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एवं राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी मौजूद रहे।

एक्शन में भारतीय एयर फोर्स

अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों को लाने के लिए भारत सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। फिलहाल अभी भारतीयों को लाने का जिम्मा इंडियन एयर फोर्स के c-17 विमानों को सौंपा गया है। बखूबी वो अपना काम कर भी रहे हैं।

Leave a Reply