Taliban crossed all limits of cruelty, shot the girl for wearing tight clothes

अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकियों का आतंक दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। तालिबान के इस्लामी आतंकी क्रूरता की सारी हदें पार करते हुए निर्दोष लोगों को भी मार रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तालिबान ने एक 21 वर्षीय लड़की की हत्या सिर्फ इसलिए कर दी, क्योंकि उसने टाइट कपड़े पहने थे और उसके साथ कोई पुरुष रिश्तेदार नहीं था।

बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद से तालिबानी आतंकी बेगुनाह लोगों को जबरन घरों से बाहर निकालकर मार रहे हैं। उन्होंने जिन इलाकों पर कब्जा कर लिया है, वहाँ शरियत कानून लागू करते हुए महिलाओं के अकेले घर से बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

यह घटना उत्तरी बल्ख प्रांत के समर कांदियान के एक गांव की है, जिस पर पूरी तरह से तालिबानियों का कब्जा है। बल्ख के पुलिस प्रवक्ता आदिल शाह आदिल ने बताया कि लड़की का नाम नाजनीन था और उसकी उम्र 21 साल थी।उन्होंने बताया कि लड़की अपने घर से बल्ख की राजधानी मजार-ए-शरीफ जा रही थी। वो अपने घर से निकलकर गाड़ी में बैठ ही रही थी कि तभी आतंकियों ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने बताया कि लड़की ने बुर्का पहना हुआ था। हालांकि, तालिबान ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है।

एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि तालिबान जैसे ही किसी नए इलाके या शहर पर कब्जा करता है, वैसे ही मस्जिदों से पुलिसकर्मियों और सरकारी कर्मचारियों की पत्नियों और विधवाओं को उन्हें सौंपने का ऐलान करवाता है। तालिबान के बढ़ते ही परिवारों में डर है और वो अपने घर की महिलाओं और लड़कियों को काबुल की सुरक्षित जगह भेज रहे हैं, ताकि उन्हें आतंकियों से बचाया जा सके।

Leave a Reply