August 5, 2021

चिराग तले छाया अंधेरा , लोजपा में गुटबाजी से चिराग पासवान पड़े अकेले

निशांत दीक्षित की रिपोर्ट

निशांत दीक्षित की रिपोर्ट


लोक जनशक्ति पार्टी में बड़ी टूट की खबर सुर्खियों में है । सूत्रों की माने , लोजपा यानी (LJP) सांसदों ने पार्टी के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा सांसद चिराग पासवान को ही पार्टी के अलग थलग करने की कोशिश । लोजपा के पांच सांसद अलग गुट बनाने की कोशिश में जुटे हैं। कहा जा रहा है कि यह सभी पांच सांसद जेडीयू के संपर्क में हैं।

सूत्रों के हिसाब से , लोजपा सांसद चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस ही पार्टी में इस टूट के सूत्रधार बताए जा रहे हैं। कहा जाता है कि पशुपति पारस के हमेशा से नीतीश कुमार से संबंध अच्छे रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, पांचों सांसद जल्द ही लोकसभा के स्पीकर ओम बिरला को पत्र लिखकर इसके बारे में सूचना दे सकते हैं।

पशुपति पारस को चुना गया नेता: सूत्रों के हवाले से मिली खबर
टूट की खबर उस समय आ रही है जब केंद्र में कैबिनेट फेरबदल की खबर आ रही है और नीतीश अपनी पार्टी के लिए अधिक कोटे की मांग कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, रविवार को नाराज 5 सांसदों की बैठक हुई।

इस बैठक में चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस को नेता चुना गया है। कहा जा रहा है कि सभी पांचों सांसद चिराग पासवान की कार्यशैली से नाराज हैं।

नाराज हैं चिराग पासवान से ये लोजपा सांसद
सूत्रों के मुताबिक, सोमवार शाम 3 बजे लोकसभा स्पीकर के साथ लोजपा के नाराज गुट की मीटिंग है। इस मीटिंग के दौरान लोजपा का नाराज गुट पार्टी पर अपना दावा ठोकेगा। जिसके बाद सभी के जेडीयू में शामिल होने की संभावना जताई जा रही है।

आज पार्टी के जिन पांच सांसदों ने चिराग से अलग होने का फैसला लिया है, इनमें पशुपति पारस, प्रिंस, महबूब अली कैसर, वीणा देवी और चंदन सिंह शामिल हैं। अब चिराग पार्टी में अकेले ही रह गए हैं।

Leave a Reply