August 16, 2022

UAPA : क्या है यह कानून ?

Rahul Raj

UAPA एक ऐसा कानून जिसका जन्म विवादों के साथ हुआ और आज भी विवादों के साथ ही घिरा है। UAPA कानून सर्वप्रथम 1967 में लाया गया था, और इसका संशोधन वर्तमान सरकार ने 2019 में किया। जहां एक ओर इस कानून का उपयोग गैर कानूनी संस्थाओं को आतंकी घोषित करने के लिए किया जाता था, तो वहीं वर्तमान संशोधन ने इसका दायरा व्यक्ति विशेष तक कर दिया है। इतना ही नहीं नए संशोधन के मुताबिक किसी व्यक्ति पर शक मात्र होने पर ही उसे आतंकी घोषित किया जा सकेगा।

व्यक्ति विशेष का आतंक से सीधा संबंध हो या ना हो, उस पर UAPA लगाकर आतंकी घोषित किया जा सकता है। संशोधित नियमों के अनुसार अगर वह व्यक्ति अपने ऊपर लगे आतंकी होने का धब्बा हटाना चाहे, केस से बड़ी होना चाहे, तो उसे कोर्ट जाने से पहले सरकार द्वारा निर्मित रिव्यू कमिटी के पास जाना होगा। बाद में कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं। हालांकि आलोचकों की मानें तो यह कानून लोकतंत्र विरोधी है और सरकारें इसे अपने लिए क्रूर हथियार बनाकर उपयोग कर सकती हैं।

Leave a Reply